स्विमिंग की 3 साधारण गलती और उसका उपाए

स्विमिंग मनुष्यों के लिए प्राकृतिक नहीं होती है इसलिए इंसानों को स्विमिंग सीखना पड़ता है और उस तरीके को सीखना पड़ता है जिससे कम से कम ताकत में ज्यादा आचे से स्विमिंग हो| एक चीज़ तो मैं कह सकता हु की स्विमिंग को सिखने के लिए बोहोत प्रैक्टिस चैये होती है, बहुत समय देना पड़ता है और पूल का बार बार राउंड लगाने से ही स्विमिंग में परफेक्शन आती है | आर्टिकल स्विमिंग की  गलती और उसको कैसे सही करे उसके बारे में है|

फ्रीस्टाइल स्विमिंग :-

गलती #1:- सर की सही पोजीशन  

नए तैराकों के साथ यह गलती बोहोत ही साधारण है की वो अपने सर को सीधे रख कर इधर उधर करते है और अपने शारीर को स्ट्रीमलाइन नहीं रख पते, स्विमिंग करते वक्त सांस लेने के समय तैराक अपने पुरे सर को ऊपर उठा देते है जो की बिलकुल गलत है, इससे सिर्फ पानी में एक रुकावट बनती है| इसको सही करने के लिए तैराकों को अपने सर को नैचुरली घुमा के साइड से सांस लेना चाहिए|

गलती #:- छोटे स्विमिंग स्ट्रोक

यह गलती लगभग 80% तैराकों में देखा जाता है जब वह थक जाते है और छोटे स्ट्रोक को करने लगते है, फ्रीस्टाइल स्विमिंग करने का सबसे अच्छा तरीका यह है की तैराकों को अपने हाथो को अपने सर के सामने से करनी चाहिए और हाथ को आगे बढ़ा कर फिर पुल करना चाहिए, छोटे स्ट्रोक को करते वक्त भी हाथ सर आगे से ही जाता है लेकिन फिनिशिंग वक्त तैराकों को लॉन्ग स्ट्रोक वाले तैराकों से ज्यादा स्ट्रोक करना पड़ेगा| छोटे स्ट्रोक करने से तैराक हर पुल पर जायदा दुरी नहीं तैर पता इसलिए हमेसा लम्बे स्ट्रोक पर ही ध्यान देना चाहिए| तैराकों को DPS(DIstance per stroke) को बढ़ाने पर ध्यान देना चाहिए, प्रोफेशनल तैराको का DPS ज्यादा होता है|

गलती #3 किक

  किक में आमतौर पर दो तरह की गलती देखने को मिलती है, पहली कमजोर किक और दूसरी ओवर किक| अगर आपने कभी किक बोर्ड लेकर सिर्फ किक की मदत से स्विमिंग पूल का राउंड लगाना चाहा और आपकी किक कमजोर या धीमी है तो आप आप देखेंगे की मुस्किल से ही आप आगे बढ़ेंगे, एक अच्छी किक के लिए अंकल(ankle) में लचीलापन होना बोहोत जरुरी है, इसकी कमी होने से कभी कभी ये भी देखा गया है की फिन्स का यूज़ करते वक्त पैरो में अकड़न आने लगती है इसलिए ankle में लचीलापन होना बोहोत जरुरी है| कमजोर किक हो सही करने के लिए जरुरी है की तैराकों को रोज किक के कुछ वर्कआउट करने चाहिए|

किक निरंतर चली चाहिए और एक लय होनी चाहिए स्ट्रोक के साथ, खासकर सांस लेते वक्त तैराक किक धीमे या फिर रोक देते है तो उसपर भी तैराकों को ध्यान देना चाहिए| फिन्स का ज्यादा इस्तेमाल भी खराब होता है फिन्स को कोच से सलाह लेकर ही इस्तेमाल करना ठीक रहता है |

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई है तो नीचे कमेंट करे और जिस चीज़ के बारे में आपको पोस्ट पढनी हो उसे भी कमेंट में लिख दे |

Leave a Reply

Be the First to Comment!

wpDiscuz

About Sanuj Srivastava

Sanuj Srivastava

Sanuj Srivastava born on January 19th, 1996 in INDIA. He started to love Water at the age of 13 and his friends named him "Gold fish", He graduated in Bachelor of science in Physics, Chemistry and Mathematics in 2016. He is a passionate learner and a student who also happens …

Read More »